EXCLUSIVE

फेसबुक लाइव के जरिये जनता को कर रहे संबोधित कर रहे सीएम उद्धव ठाकरे, मुख्यमंत्री पद से दे सकते है इस्तीफा !

CM Uddhav Thackeray, addressing the public through Facebook Live, may resign from the post of Chief Minister!

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) फेसबुक के माध्यम से जनता को संबोधित कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमने कोरोना संकट का डटकर सामने किया। यह सच है कि मैं अपनी सर्जरी और स्वास्थ्य की स्थिति के कारण पिछले कुछ महीनों में लोगों से नहीं मिल सका। लेकिन अब मैंने लोगों से मिलना शुरू कर दिया है। कई लोग शिवसेना पर सवाल उठा रहे। कुछ लोग कहते हैं कि यह बाला साहब की शिवसेना नहीं है।

उन्हें बताना चाहिए कि बाला साहब के विचार क्या थे। ये वही शिवसेना है जो उनके जमाने में थी ‘हिंदुत्व’ ही हमारी जान है। आदित्य और एकनाथ शिंदे अयोध्या गए थे। हमने हिंदुत्व के लिए जो किया है, उसके बारे में बात करने का यह समय नहीं है। शिवसेना हिंदुत्व से अलग नहीं है। 2014 में भी शिवसेना अकेले चुनाव लड़ी थी। हिंदुत्व और शिवसेना एक ही हैं। हम बाला साहेब के सिद्धांतों पर ही चल रहे हैं। बाला साहेब के विचारों से अलग नहीं हैं। उनकी विचारधारा से ही आगे बढ़ रहे हैं।

मैं बागी विधायकों पर बात नहीं करूंगा। शिवसेना को जनता का समर्थन है। राज्य में बिना अनुभव के कोविड से लड़ा। पूरी तरह से ईमानदारी से काम किया। कई विधायक हमें फोन कर रहे हैं और कह रहे हैं कि हम लौट आएंगे। शरद पवार ने कहा कि मुझे सीएम बनना चाहिए। मैं सदमे में हूं। अगर कांग्रेस और एनसीपी ने कहा कि वे मुझे सीएम के रूप में नहीं चाहते हैं, तो यह समझ में आता है। लेकिन कमलनाथ, शरद पवार ने कहा कि वे मेरे साथ हैं।

शरद पवार और सोनिया गांधी ने मेरी बहुत मदद की, उन्होंने मुझ पर अपना विश्वास बनाए रखा। लेकिन अगर मेरे ही लोग नहीं चाहते कि मैं सीएम बनूं, तो मैं क्या करूं? इस फेसबुक लाइव के बाद मातोश्री शिफ्ट हो रही हूं। मुझे किसी पोस्ट से कोई लगाव नहीं है। मैं बालासाहेब ठाकरे का बेटा हूं। विधायक मुझसे मिल सकते थे। सूरत जाने की क्या जरूरत थी। अगर नहीं चाहते हैं तो मैं मुख्यमंत्री पद छोड़ देता हूं। अगर मेरा काम नहीं पसंद तो मेरे मुंह पर कह देते। मैं अपना इस्तीफा लिख रहा हूं। मैं इस्तीफा देने के लिए तैयार हूं।

 

उनकी गठबंधन वाली सरकार संकट में है। शिवसेना में बगावत हो गई है। एकनाथ शिंदे के साथ 30 से ज्यादा विधायक हैं। ऐसे में सरकार के साथ-साथ शिवसेना पार्टी भी संकट में है। इस बीच एकनाथ शिंदे का दावा है कि उनके साथ शिवसेना के चालीस से ज्यादा बागी विधायक साथ में हैं। 34 विधायकों के साइन के साथ शिंदे ने राज्यपाल और डिप्टी स्पीकर को चिट्ठी भेजी है। शिंदे ने अपना शक्ति परीक्षण उद्धव ठाकरे को दिखा दिया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Back to top button