गोधन न्याय योजना : किसानों की बल्ले-बल्ले….गोधन न्याय योजना के लाभार्थियों को होगा 7 करोड़ 5 लाख रुपये का पेमेंट

Chhattisgarh: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप राज्य में पशुधन के संरक्षण और संवर्धन के लिए स्थापित गौठान तेजी से ग्रामीण औद्योगिक पार्क के रूप में विकसित होने लगे हैं.

मुख्यमंत्री ने 16 दिसम्बर से 31 दिसम्बर 2022 तक गौठानों में पशुपालक ग्रामीणों, किसानों, भूमिहीनों से क्रय 2.29 क्विंटल गोबर के एवज में उनके खाते में 4 करोड़ 59 लाख रुपए की राशि ऑनलाइन ट्रांसफर की।

छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने मंगलवार को अपने निवास कार्यालय में आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम में गोधन न्याय योजना के हितग्राहियों के खाते में 7 करोड़ 5 लाख रुपए ऑनलाइन ट्रांसफर की। मुख्यमंत्री ने 16 दिसम्बर से 31 दिसम्बर 2022 तक गौठानों में पशुपालक ग्रामीणों, किसानों, भूमिहीनों से क्रय 2.29 क्विंटल गोबर के एवज में उनके खाते में 4 करोड़ 59 लाख रुपए की राशि ऑनलाइन ट्रांसफर की।

ये खबर भी पढ़े : भिलाई गैंगवार का CCTV ‌‌‌‌वीडियो ; 2 लोगों की पीट-पीटकर हत्या का VIDEO…. युवकों ने रॉड-फावड़े से मारा, फिर पत्थर से कुचला; 15 आरोपी गिरफ्तार, 2 की तलाश जारी

अब तक 197.45 करोड़ रुपए का भुगतान

महिला समूहों के खाते में 1 करोड़ रुपए की लाभांश राशि अंतरित की गई। गोबर विक्रेताओं को अब तक 197.45 करोड़ रुपए का भुगतान हो चुका है। 98.73 लाख क्विंटल गोबर खरीद गया है। गौठान समितियों एवं महिला स्व-सहायता समूहों को अब तक 171.87 करोड़ रुपए का भुगतान हो चुका है। गोबर विक्रेताओं को आज भुगतान की गई 4.59 करोड़ रुपए की राशि में से 1.76 करोड़ रुपए का भुगतान कृषि विभाग की ओर से किया गया।4564 स्वावलंबी गौठानों ने अपने संसाधनों से 2.83 करोड़ का भुगतान किया गया। स्वावलंबी गौठनों की ओर से अब तक 35.19 करोड़ रुपए के गोबर की खरीदी की गई है।

रायपुर और दुर्ग में लगेगी 2-2 और कांकेर में 1 पेंट यूनिट

इस मौके पर सीएम ने कहा कि वर्तमान में रायपुर और दुर्ग जिले में 2-2 और कांकेर में 1 प्राकृतिक पेंट बनाने की यूनिट में उत्पादन शुरू हो रहा है। प्रदेश के 25 जिलों के 37 गौठानों में गोबर पेंट बनाने की 37 यूनिट लगाई जाएंगी। 8997 लीटर उत्पादित प्राकृतिक पेंट में से 3307 लीटर की बिक्री से 7 लाख 2 हजार 30 रुपए की आमदनी हुई है। 96 गौठनों में अब तक 1 लाख 15 हजार 423 लीटर की राशि से गौमूत्र खरीद गया है।

महिला स्व सहायता समूहों को हुई 22.43 लाख रुपए की आय

गौमूत्र से बनाए गए कीटनाशक ब्रम्हास्त्र और वृद्धिवर्धक जीवामृत की बिक्री से महिला स्व सहायता समूहों को हुई 22.43 लाख रुपए की आय हुई है। वहीं मुख्यमंत्री की पैरादान की अपील पर किसानों ने गौठनों में किया 10.32 लाख क्विंटल पैरादान दान किया। इस दौरान कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे भी कार्यक्रम में मौजूद रहे। वहीं मुख्यमंत्री के सलाहकार प्रदीप शर्मा, छत्तीसगढ़ खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गिरीश देवांगन, मुख्य सचिव अमिताभ जैन, कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ. कमलप्रीत सिंह भी उपस्थित रहे।

BJP नेता को मारी गोली , हालत गंभीर, पुलिस कर रही है जांच

गोधन न्याय योजना : किसानों की बल्ले-बल्ले….गोधन न्याय योजना के लाभार्थियों को होगा 7 करोड़ 5 लाख रुपये का पेमेंट

⇒⇒⇒ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें FACEBOOK या TWITTER पर फॉलो करें. Thebharatexpress.com पर विस्तार से पढ़ें देश की अन्य ताजा-तरीन खबरें

Related Articles

Back to top button