EXCLUSIVEछत्तीसगढब्रेकिंग न्यूज़राज्यरायपुरशिक्षा

ऑनलाइन परीक्षा की मांग को लेकर रायपुर में बवाल: रविवि में NSUI नेताओं ने जमकर किया हंगामा

Ruckus in Raipur over demand for online examination: NSUI leaders create ruckus in Ravi

रायपुर के पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के बाहर सोमवार को एनएसयूआई के नेताओं ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। इनके साथ बड़ी संख्या में यूनिवर्सिटी के छात्र भी थे। यह सभी नारेबाजी करते हुए यूनिवर्सिटी कैंपस में दाखिल हो गए। पहले से ही कैंपस में मौजूद पुलिस ने एंट्रेंस गेट के पास इन्हें रोक दिया। यहीं बैठकर काफी देर तक स्टूडेंट यूनियन के नेता और छात्र धरना देते रहे।

सह सभी नारे लगाते रहे कि जैसे शिक्षा वैसी परीक्षा…। असल में यह विरोध प्रदर्शन यूनिवर्सिटी में होने वाले परीक्षाओं को लेकर है। यूनिवर्सिटी ने ऑफलाइन परीक्षा लेने का ऐलान किया है। इसी बात का विरोध छत्तीसगढ़ एनएसयूआई और यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट कर रहे हैं। काफी देर तक हंगामे और नारेबाजी के बाद स्टूडेंट यूनियन ने अपना एक ज्ञापन प्रबंधन को सौंपा। जिसमें छात्रों की तरफ से यह मांग की गई है कि आगामी परीक्षा को ऑफलाइन मोड की बजाय ऑनलाइन तरीके से लिया जाए।

इस वजह से ऑनलाइन की मांग
इस पूरे विरोध प्रदर्शन को लेकर छात्र नेता हनी सिंह ने बताया कि यूनिवर्सिटी ने पूरे साल ऑनलाइन क्लासेस ली। बहुत से स्टूडेंट को पढ़ने में और कोर्स कंप्लीट करने में दिक्कतें आईं। इसकी शिकायत हमारे पास पहुंची थी। जिस वजह से एनएसयूआई के पदाधिकारी छात्र हित में इस मांग को यूनिवर्सिटी प्रबंधन के सामने रख रहे हैं। जब वह पढ़ाई ऑनलाइन तरीके से हो सकती है तो परीक्षा क्यों नहीं दी जा सकती। ऑनलाइन परीक्षा लिए जाने से परीक्षा का दबाव कम होगा, जिन बच्चों की ठीक तरह से तैयारी ही नहीं हो पाई उन्हें उत्तर देने का अधिक समय मिलेगा। इसलिए हम चाहते हैं कि इसे ऑनलाइन ही लिया जाए।

16 अप्रैल से होनी है परीक्षा

पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय की परीक्षाएं 16 अप्रैल से ली जानी है। इसका टाइम टेबल भी जारी कर दिया गया है । ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन कि ये परीक्षाएं ऑफलाइन तरीके से होंगी। यानी कि कॉलेज जाकर स्टूडेंट्स को परीक्षा देनी होगी। पिछले साल कोविड-19 संक्रमण की वजह से परीक्षाएं ऑनलाइन भी हुई थी । इस बार हो रही परीक्षा में 1 लाख 82 हजार से अधिक स्टूडेंट्स शामिल होंगे। अब यूनिवर्सिटी पर निर्भर करता है कि वह छात्र संगठन की ऑनलाइन परीक्षा की मांग को मानता है या नजरअंदाज कर ऑफलाइन परीक्षा लेने की बात पर ही पड़ा रहता है। फिलहाल स्थिति स्पष्ट नहीं है। एनएसयूआई नेताओं के ज्ञापन पर यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने विचार करने की बात कही है।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Back to top button